लक्ष्य को कैसे निर्धारित करें …..?

दोस्तों मैं अपनी लाइफ में ये पहला ब्लॉग लिख रहा हूँ | मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वाश है कि आपको ये अवश्य पसंद आएगा |
अगर हम लोगों से पूछा जाये कि हमारा लक्ष्य क्या है? या हम लाइफ में क्या करना चाहते है ..? तो बहुत कम लोग ही इसका सही सही उत्तर दे पाए | कुछ लोग तो ऐसे होंगे जो सिर्फ पूछने वाले को संतुष्ट करने की कोशिश करेंगे |  पर अपनी अंतरात्मा को वो संतुष्ट नहीं  कर पाते है | दोस्तों सबसे पहले हमें ये समझ लेना चाहिए कि बिना लक्ष्य के जिन्दगी जीने का कोई महत्व नहीं होता है | हम लाइफ तो जी लेते है पर जब हम पीछे मुड कर देखते है तो हमरे पास पछताने कि अलावा कुछ नहीं होता है |  दोस्तों अगर हम आपने लक्ष्य को पाने कि कोशिश करते है और उसे नहीं पा पाते है | तो हमें उसका पछतावा नहीं होता  है |
    दोस्तों हम सभी काम नहीं कर सकते | अगर किसी एक के पीछे भागा जाये तो कही बेहतर होगा | हमारे पास दिमाग तो बहुत है पर सबसे बड़ी समस्या है कि उसका प्रयोग नहीं करते है |
    अब यहाँ पर आप ये सोच रहे होंगे कि अपना लक्ष्य कैसे चुने ?
आपको अपने आप से कुछ पूछना होगा……..
१   आपको क्या अच्छा लगता है .  मतलब आप करना क्या चाहते है ? अगर आप उस क्षेत्र को चुनेंगे जो आपको पसंद है तो आप उसे बहुत अच्छे से कर सकते है |  आप इससे अपना लक्ष्य चुन सकते है |
२ आपको  किस क्षेत्र में दक्षता हाशिल है ? अगर आप इसके आधार पर अपना लक्ष्य चुनते है | तो भी आप जल्दी सफल हो जाते है |
सभी की अपनी एक अगल पसंद होती है | कुछ लोग पैसा कमाना चाहते है | तो कुछ लोग शांत जीवन व्यतीत करना पसंद करते है | कुछ को सरकारी नौकरी अच्छी लगती है |
जैसे मुझे बिजनेस में रूचि है | मै बिजनेस के बारे में सोचता रहता हूँ उसी के प्लान बनाता हूँ | मेरी एक दोस्त है उसे सरकारी जॉब पसंद है | वो उसी के बारे में सोचती है | मेरा एक और दोस्त है उसे यही नहीं पता है कि वो करेगा क्या तो वो सब कुछ करना चाहता है | इस चक्कर में वो कुछ नहीं कर पा रहा है |
दोस्तों अब तक आप लोगो ने अपना लक्ष्य सोच लिया होगा | अगर नहीं सोचा है तो सोच लीजिये |
 अब आप ये सोच रहे होंगे कि आप इसमें सफल होंगे या नहीं | दोस्तों मै आपसे यहाँ एक प्रश्न करना चाहूँगा | जब आप कोई गेम खेलते है तो क्या आपको पता होता है कि आप हार जायेंगे ? जबकि गेम में सिर्फ दो पहलु होते है हार या जीत वहा जीतने का मौका सिर्फ ५० प्रतिशत होता | लेकिन अपने लक्ष्य को पाने के असफल होने के मौका बहुत कम होता है  | फिर हम अपने लक्ष्य के लिए नकारात्मक क्यों सोचते है | आपको सिर्फ ये सोचना है कि आप सिर्फ और सिर्फ सफल ही होंगे | फिर डर कैसा ?
   दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे कि स्टार्ट कहाँ  से करें ? दोस्तों हमें एक बात ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी को स्टार्ट सिर्फ जीरो से किया जा सकता है | सभी की शुरुआत जीरो से ही होती है | तो हमें भी अपने लक्ष्य की तरफ   जीरो से बढ़ना चाहिए |
दोस्तों फिर देर किस बात कि लग जायो काम पर | आपको टाइम को याद रखना होगा |
दोस्तों अगर आपको हमारा ब्लॉग पसंद आता है तो हमें एक मेल जरुर कीजियेगा | इससे हमें और आगे लिखने की प्रेरणा मिलेगी |
  1. #1 by N Bodh on June 26, 2013 - 4:29 pm

    It is very good thinking

  2. #2 by akas on October 3, 2013 - 5:18 am

    Nice it is good think
    Ese aur bhi achhe tarah likhana age??

  3. #3 by kuldeep mwasnik on October 5, 2013 - 11:24 pm

    vary good nice a good think to vary mach

  4. #4 by prem on December 7, 2013 - 2:22 pm

    thanks !
    aap bahot acchha kar rahe hai isse logon ko prerna milegi….

  5. #5 by ankit on February 10, 2014 - 7:10 pm

    bahut acha likha aaj tumne aankhe khol di…..

  6. #6 by ritesh on April 29, 2014 - 7:18 pm

    thanks !!
    good thinks

  7. #7 by popat ramdas pitekar on July 11, 2014 - 3:06 pm

    very nice coments, thanks sir…………

  8. #8 by PREETI on December 3, 2014 - 1:52 pm

    IT’S VERY GOOD THINKING

  9. #9 by poonam uniyal on March 24, 2015 - 8:47 am

    thanks ………… nice a good think.

  10. #10 by ADARSH on July 6, 2015 - 12:45 pm

    your blog is better for motivation a achive aim

आप भी कुछ कहें ...!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: